कोरोना काल में मदद की ‘रीत’ जरूरी

रीत चैरिटेबल ट्रस्ट ने 50 आदिवासियों को राशन और 500 बच्चों को बिस्किट—चॉकलेट बांटे

आनंद शुक्ला

उल्हासनगर. कोरोना काल में जरूरतमंद लोगों की मदद के लिए रीत चैरीटेबल ट्रस्ट खूब बढ़ चढ़ कर हिस्सा ले रहा है। रीत चैरिटेबल ट्रस्ट ने 50 आदिवासियों को राशन और 500 बच्चों को बिस्किट—चॉकलेट बांटे हैं। गौरतललब है कि महाराष्ट्र में कोरोना की दूसरी लहर ने बड़ी संख्या में लोगों को परेशान किया है। कोरोना की दूसरी लहर में कई परिवार तबाह हो गए और कई लोग काल के गाल में समा गए। संस्कृति के क्षेत्र में सामाजिक प्रतिबद्धता को बनाए रखने के लिए काम करने वाली संस्था रीत चैरिटेबल ट्रस्ट 50 आदिवासी परिवारों को दिन में दो बार अनाज बांटने के लिए मुक्त हस्त पहल शुरू कर दी है। इसमें रीत परिवार के सदस्य चैताली कालुष्ते, नम्रता कालुष्ते, अश्विनी पिंपले, आदित्य खाड़े, बिपिन पिंपले आदि शामिल हैं।