तिहाड़ जेल से मिली धमकी, कांग्रेस अध्यक्ष विक्रांत चव्हाण ने की कार्रवाई की मांग



ठाणे. ठाणे शहर कांग्रेस अध्यक्ष नगरसेवक विक्रांत चव्हाण को तिहाड़ जेल से धमकाने का मामला सामने आया है। चव्हाण ने धमकी को लेकर मनपा के सहायक आयुक्त महेश आहेर पर आरोप लगाया है। चव्हाण ने अपराध शाखा के डीसीपी
लक्ष्मीकांत पाटिल से मुलाकात कर मामले की जानकारी दी।
चव्हाण के मुताबिक परसों उन्हें किसी का फोन आया था। उसके बाद उन्हें मुंबई के घाटकोपर स्थित एक जगह पर बुलाया गया था। वे जब वहां पहुंचे तो उन लोगों के साथ सहायक आयुक्त महेश आहेर मौजूद थे। वहां से उन लोगों ने
तिहाड़ जेल में बंद और आजीवन कारावास की सजा काट रहे एक कुख्यात गैंगस्टर
से बात करायी और उन्हें अवैध निर्माण से जुड़े मामले से दूर रहने को कहा गया। चव्हाण शहर में हो रहे अवैध निर्माणों को लेकर लम्बे अरसे से मनपा प्रशासन पर हमलावर रहे हैं और उन्होंने इसके लिए मनपा अधिकारियों को जबाबदार ठहराया है। चव्हाण ने मनपा के कुछ अधिकारीयों के पिछले कई सालों
से एक ही स्थान पर जमे होने,अवैध निर्माण तथा फेरीवालों से प्रति माह
करोड़ों की वसूली करने का सनसनीखेज आरोप विगत दिसंबर माह में लगाया था और मामले की सीआईडी जांच की मांग की थी। अवैध निर्माण के खिलाफ ठाणे कांग्रेस ने आंदोलन और प्रदर्शन किया था। चव्हाण का कहना है कि धमकी के
बावजूद शहर के अवैध निर्माणों को लेकर वे आवाज उठाते रहेंगे और उनकी आवाज  को बंद नहीं किया जा सकता है। चव्हाण ने मनपा से जल्द से जल्द अवैध निर्माणों के ख़िलाफ कार्रवाई करने की मांग की है। चव्हाण ने चेतावनी दी है की कांग्रेस की तरफ से सड़क पर उतर कर शीघ्र आंदोलन किया जायेगा। पता हो की बिल्डर सूरज परमार सुसाईड मामले में चव्हाण भी एक आरोपी है। परमार की गाडी से मिले सुसाइड नोट के आधार पर उनकी गिरफ़्तारी हुई थी।