भदोहीवासियों की अपील: अब तो जिला अस्पताल बनवा दीजिए ‘सरकार’

एक बार फिर गरमाया मुद्दा, 12 जून को 12 बजे ट्विटर पर एक साथ आवाज उठाएंगे जनपदवासी, स्वीकृत बजट से ज्यादा हो चुका है खर्च

संजय सिंह
Bhadohi.
एक दशक पहले जनपद में जिस जिला अस्पताल की स्थापना का ख्वाब देखा और दिखाया गया था, वह अभी तकपूरा नहीं हो सका है। 15 लाख की आबादी वाले इस जनपद में स्वास्थ्य सुविधाएं बेहद लचर अवस्था में हैं। तकरीबन 12 साल पहले जनपद में जिस अस्पताल की नींव रखी गई थी, वह आज भी निर्माणाधीन अवस्था में पड़ा है।
हैरानी की बात यह है कि उक्त निर्माण पर स्वीकृत बजट से भी ज्यादा धन खर्च हो गया, लेकिन जिला अस्पताल के निर्माण का कार्य पूरा नहीं हो सका।

वर्ष 2008-09 में औराई विधायक एवं तत्कालीन कैबिनेट मंत्री पंडित रंगनाथ मिश्र के प्रयास से जिला मुख्यालय के पास सरपतहा में इस अस्पताल की नींव रखी गई थी। इस बीच सपा की सरकार आई और चली गई। मौजूदा समय में भाजपा की सरकार है। लेकिन, अस्पताल के निर्माण का कार्य आगे नहीं बढ़ सका। इस कार्य को पूरा कराने के लिए युवाओं द्वारा छेड़ी गई मुहिम एक बार फिर जोर पकडऩे लगी है।

देखा जाए तो बीते माह में कोरोना महामारी की दूसरी लहर में स्वास्थ्य सुविधाओं के अभाव में काफी लोग अपनी जान से हाथ धो बैठे। इसके बावजूद भी अभी तक शासन-प्रशासन स्वास्थ्य सुविधाओं के इजाफे में कोई कदम नहीं उठा सका। स्वास्थ्य सुविधाओं की तंगी झेल रहे जनपदवासियों ने एक बार फिर अपनी बात शासन-प्रशासन तक पहुंचाने के लिए कमर कसी है।

युवा नेता डा. ज्ञान मिश्र ने बताया कि इसके लिए समस्त जनपदवासी 12 जून को, 12 बजे एक साथ सोशल मीडिया प्लेटफार्मों और ट्विटर के जरिए इसकी मांग उठाएंगे। इसके बाद हस्ताक्षर अभियान भी चलाया जाएगा। समाजसेवी हरीश सिंह और काशियाना फाउंडेशन के संस्थापक सुमित सिंह ने अस्पताल का निर्माण होने तक समस्त जनपदवासियों से मुहिम से जुडऩे की अपील की है।

बता दें कि इसके पूर्व भी पिछले साल युवाओं ने अस्पताल बनवाने के लिए मुहिम छेड़ी थी। इसके अलावा कई लोगों ने राज्यपाल और मुख्यमंत्री को पत्र भेजकर अस्पताल बनवाने की मांग की। भदोही के सांसद रमेश बिंद व औराई विधायक दीनानाथ भाष्कर ने भी मुख्यमंत्री को पत्रक दिया, लेकिन कोई सुनवाई अभी तक नहीं हुई।