विस चुनाव 2022: पंचायत चुनावों में मिली हार का सता रहा भय!

विधानसभा चुनाव 2022 की तैयारी में अभी से जुट गए सत्ताधारी पार्टी के नेता

संजय सिंह
Bhadohi.
अगले साल देश के पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव होने हैं। इन राज्यों में उत्तर प्रदेश भी शामिल है। सूबे में भाजपा की सरकार है। और, हाल ही में संपन्न हुए त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव सत्ताधारी पार्टी को मिली हार ने पार्टी नेताओं, पदाधिकारियों और राजनैतिक धुरंधरों को चिंता में डाल दिया है। सूबे की राजधानी में राजनैतिक हलचल बढऩे का असर जनपद में भी देखा जा रहा है। यूपी के त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव को छोड़ दें तो हाल ही में कई राज्यों में विधानसभा चुनाव हुए हैं। इसमें बंगाल में सत्ताधारी पार्टी को अपेक्षित कामयाबी नहीं मिल पाई है। इसके बाद 2022 में यूपी के विधानसभा चुनाव (Vidhan Sabha Elections 2022) पर भाजपा ने अभी से तैयारी शुरू कर दी है।

गौरतलब है कि यूपी में 2017 में भारी बहुमत से भाजपा सत्ता में आई थी और कई राजनैतिक दलों ने गठबंधन कर भाजपा को हराने में पूरा जोर लगा दिया, पर मतदाताओं ने उन सभी को नकार दिया था। इस बार सभी दल पहले से ही जोर आजमाइश कर आगामी विधानसभा चुनाव की रणनीति में लग गए हैं।
तो दूसरी तरफ भाजपा और संघ की हर बैठक में उत्तर प्रदेश चुनाव की बात की जा रही है। सत्ताधारी पार्टी के नेताओं का मानना है कि अब सबको इस बात का अहसास है कि सत्तारूढ़ सरकार ने पंचायत चुनाव में हार का सामना किया है। इस पर शीर्ष स्तर पर पार्टी की नींद उड़ी हुई हैं।

स्थानीय नेताओं का कहना है कि पंचायत चुनाव में हार मिलना आगामी विधानसभा चुनाव के लिए ठीक संकेत नहीं हैं। इसका सीधा असर विधानसभा चुनाव पर पड़ता नजर आ रहा है। अब देखना है कि उत्तर प्रदेश में पंचायत चुनावों के नतीजों का कितना असर विधानसभा चुनावों पर पड़ता है।