कव‍िता : प्रतीक्षा

खिल उठा है तुम्हारा लगाया हुआरातरानी का वृक्षइसकी पुरानी आदत हैयूं ही खिल उठने कीढीला हो…