अस्तित्ववादी प्रार्थना

ज़िंदा हैं हम,चल रही हैं हमारी सांसें,नज़ारे देख सकती हैं आंखें,कान सुन सकते हैं आवाज़ेंसूंघ सकती…