SRN Hospital Rape Case: भारी दबाव के बाद पुलिस ने दर्ज किया केस

आलोक गुप्ता
Prayagraj.
स्वरूप रानी नेहरू चिकित्सालय (SRN Hospital) के आपरेशन थियेटर में गैंगरेप (Gang Rape) का आरोप लगाने वाली युवती के बाद आखिरकार पुलिस ने केस दर्ज कर लिया है। युवती की मौत के बाद सपा नेत्री ऋचा सिंह, समाजसेवी मंजू पाठक ने मंगलवार को मौत के बाद विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया था। युवती की मौत के बाद शुरू हुए विरोध प्रदर्शन से पुलिस और प्रशासनिक महकमे में हडक़ंप मच गया और आनन-फानन में अज्ञात लोगों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया।

बताते चलें कि 29 मई को मिर्जापुर की रहने वाली एक युवती को गंभीरावस्था में एसआरएन लाया गया था। जहां 31 मई को उसका आंत का आपरेशन किया गया। आपरेशन थियेटर से बाहर लाए जाने के बाद उक्त युवती ने गैंगरेप की जानकारी लिखकर अपने भाई को दी थी। फिलहाल कोतवाली के थानाध्यक्ष अंजनी कुमार ने बताया कि अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच की जा रही है।

एसआरएन के प्रधानाचार्य ने दिया स्पष्टीकरण
दूसरी तरफ एसआरएन के प्रधानाचार्य एसपी सिंह ने स्पष्टीकरण दिया है कि आपरेशन में आठ लोगों को लगाया गया था, जिसमें चार महिला डाक्टर और एक नर्स शामिल थी। आपरेशन के पूर्व की तैयारी में युवती के प्राइवेट पार्ट की सफाई (शेविंग भी शामिल) की गई। इसके अलावा यूरिन पास करने के लिए नली लगाई गई। आपरेशन के पूर्व व बाद में हर समय महिला स्टाफ के साथ ही परिजन भी मौजूद रहे। आपरेशन के पश्चातहोश में लाने के लिए डाक्टर द्वारा दिएगए फिजिकल इंस्ट्रूमिलेशन और शल्य क्रिया केबाद नियर बाई एरियाज की सफाई और दोबारा पेशाब की नली बदलनेकी प्रक्रिया से युवती को गलतफहमी हो गई हो।