Sero Surveillance: कितनी बढ़ी इम्यूनिटी, डाक्टरों की टीम ने शुरू की जांच

गांवों से लिया जाएगा पुरुष, महिलाओं और बच्चों के रक्त का नमूना, केजीएमयू और मेरठ मेडिकल कालेज में होगी जांच

आलोक गुप्ता
Prayagraj.
कोरोना संक्रमण की वजह से शरीर में किस प्रकार के बदलाव हुए, किसकी इम्यूनिटी (Immunity) घटी और किसकी बढ़ी, इसकी भी जांच सरकार करवा रही है, ताकि आने वाले दिनों में कोरोना से निपटने में आसानी हो और जरूरत पड़ऩे पर इस जांच का उपयोग इलाज के दौरान किया जा सके। इसके अलावा यह भी स्पष्ट हो सकेगा कि सूबे की कितनी आबादी कोरोना की चपेट में आई।

इसके लिए प्रदेश स्तर पर सीरो सर्विलांस (Sero-surveillance) टीम बनाई गई है। तीन दिवसीय सीरो सर्विलांस कार्यक्रम के तहत कहां-कहां जांच की जानी है, इसका चयन कर लिया गया है। इसमें महिलाओं, पुरुषों के साथ ही बच्चों को भी शामिल किया जा रहा है।
इसके अलावा उन्हे भी विशिष्ट क्षेत्रों कें ऐसे लोग, जो पूर्व में कोरोना पाजिटिव हुए हैं अथवा कोरोना वैक्सीन से प्रतिरक्षित हैं अथवा पूर्व में सीरो सर्विलांस कार्यक्रम में प्रतिभाग किए हैं, इनका भी रक्त का नमूना लेकर कोविड एंटीबाडी की जांच एवं माप की जाएगी। इसकी जांच के लिए केजीएमयू, लखनऊ (KGMU Lucknow) और मेरठ मेडिकल कालेज (Meerut Medical College) को चुना गया है।

प्रयागराज के विकास खंड शंकरगढ़ में भी तीन गांव चुने गए हैं, इसमें ग्राम बांकीपुर, पूरे बघेल और नगर पंचायत शंकरगढ़ कस्बे के वार्ड संख्या दो से नमूना एकत्र किया जाएगा।ं आज सीएचसी के डा. अभिषेक सिंह की अगुवाई में डा. अनूप सिंह, एएनएम सत्यवती, सीएचओ अभिषेक जायसवाल, आसीष कुमार, प्रयोगशाला सहायक ऋतुराज त्रिपाठी, बांकीपुर में जाकर आठ पुरुष, आठ महिलाओं और बच्चों का नमूना जुटाया।

सीएचसी को कोविड नोडल प्रभारी डा. अनूप ने बताया कि इस जांच का मुख्य मकसद यह जानना है कि संक्रमण का विस्तार कैसा है, मनुष्य की एंटीबाडी किस स्तर पर है, की जांच की जाएगी। बताया कि बांकीपुर में शुरुआत में काफी समस्या हुई, पर ग्राम प्रधान मनोज मिश्र के सहयोग से लोग इस जांच के लिए तैयार हो गए। बताया कि लोगों को वैक्सीनेशन के लिए भी प्रेरित किया जा रहा है।