वाराणसी में महिलाओं की सुरक्षा के लिए शुरू होगा ‘सेफ सिटी प्रोजेक्ट’

84 घाटों के साथ प्रमुख जगहों पर लगेंगे 160 कैमरे
 बनाए जाएंगे 60 पिंक बूथ
Varanasi. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में महिलाओं की सुरक्षा पर योगी सरकार (Yogi government) खास ध्यान दे रही है। शहर में महिलाओं की सुरक्षा के लिए 50 करोड़ की लागत से ‘सेफ सिटी प्रोजेक्ट’ शीघ्र ही शुरू होगा। वाराणसी परिक्षेत्र के कमिश्नर दीपक अग्रवाल (Deepak Agrawal, commissioner of Varanasi zone) ने इस खास परियोजना का प्रस्ताव मार्च माह के अंत में ही शासन को भेज दिया है। वाराणसी में शीघ्र ही ये परियोजना मूर्त रूप लेगी।
गुरूवार को कमिश्नर दीपक अग्रवाल ने ‘हिन्दुस्थान समाचार’ को बताया कि महिलाओं की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए इस प्रोजेक्ट को तैयार किया गया है। पूरे प्रदेश में ये परियोजना राजधानी लखनऊ में अभी चल रही है। प्रदेश के नगर निगम वाले शहरों में भी ये परियोजना लागू होगी, जिसमें वाराणसी भी शामिल है। 
उन्होंने बताया कि परियोजना में 84 घाटों के साथ प्रमुख चिन्हित जगहों पर 160 कैमरे लगेंगे। 60 पिंक बूथ बनेंगे, जहां महिलाएं बिना संकोच के अपनी शिकायत दर्ज करा सकेंगी। महिलाओं के लिये पिंक टायलेट और स्मार्ट वीमेन शेल्टर भी बनेंगे।
उन्होंने कहा कि यह परियोजना एक अभियान है, जिसके तहत पुलिस और अन्य विभाग द्वारा सार्वजनिक स्थानों पर महिलाओं की सुरक्षा को मजबूत करने की दिशा में काम होगा। इस अभियान में महिला पुलिसकर्मियों को भी शामिल किया जाएगा।

( ये भी पढ़े – तेज आवाज में गाना बजाना पड़ा महंगा, पड़ोसी ने किया हमला)
कमिश्नर ने बताया कि वाराणसी की गलियों में भी सुगमता से सभी जगह मदद पहुंचाने के लिए महिला पुलिसकर्मियों को पिंक स्कूटर उपलब्ध कराया जायेगा। महिलाओं के किसी भी मुसीबत या समस्या में एक काल पर मदद के लिए ये पुलिसकर्मी पहुंचेगी। 
उन्होंने बताया कि रेलवे स्टेशन व रोडवेज के पास स्मार्ट वीमेन शेल्टर होम बनेगा। शेल्टर होम में किचन, टॉयलेट टेलीविजन समेत कई अत्याधुनिक सुविधाएं होंगी। पांडेयपुर में चल रही आशा ज्योति केंद्र के लिए नया भवन बनेगा। इस परियोजना में सेंट्रल कमांड सेण्टर की खास भूमिका होगी। 
उन्होंने कहा कि गंगा में भी देशी-विदेशी महिला सैलानियों के नौकायन के दौरान सुरक्षा का ध्यान रखा जायेगा। पिंक नाव में सवार महिला पुलिस गंगा में गश्त करेगी। इन नावों में जीपीएस, प्राथमिक चिकित्सा, लाइफ जैकेट जैसी जीवन रक्षक उपकरण भी रहेगा। 
बता दें कि सेफ सिटी प्रोजेक्ट (Safe City Project is to create a safe) का मुख्य उद्देश्य सार्वजनिक स्थानों पर महिलाओं के लिए सुरक्षित, संरक्षित और सशक्त माहौल तैयार करना है। इस प्रोजेक्ट को उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने राजधानी लखनऊ में पिछले वर्ष के अक्टूबर माह में ही शुभारंभ कर दिया था।