कोविड सेंटरों में कार्यरत 1200 स्वास्थ्यकर्मियों को नहीं हटाएगी मनपा

Thane. कोरोना की दूसरी लहर अब धीरे-धीरे कम होती जा रही है। नतीजन शहर के निजी कोविड सेंटरों के साथ-साथ मनपा के कोविड सेंटर में भी मरीजों की संख्या घटने लगी है। इन सबके बीच चर्चा चल रही थी कि इन कोविड सेंटरों में संविदा पर कार्यरत डॉक्टरों, नर्सों, आया, वॉर्ड ब्वाय, सफाईकर्मी आदि समेत अन्य कर्मचारियों को वापस घर भेज दिया जाएगा, लेकिन महानगर पालिका ने साफ कर दिया है कि इनमें से किसी भी कर्मचारी हटाया या कोविड सेंटर को बंद नहीं किया जाएगा। उन्हें लंबे समय तक सेवा में रखा जाएगा। कोरोना की तीसरी लहर कब आएगी, इसकी किसी को जानकारी नहीं है। ऐसे में उनकी सेवा को यथास्थिति में रखा जाएगा। बता दें कि इससे करीब 1200 ठेकाकर्मियों को तत्काल राहत मिली है।

ठाणे शहर में कोरोना की पहली लहर घटने के बाद ठाणे मनपा ने कोविड और आइसोलेशन सेंटरों को बंद कर दिया था। इसके साथ ही यहां स्टाफ भी कम कर दिया गया था। इसके बाद आई दूसरी लहर में मनपा द्वारा शुरू कोविड सेंटरों को पूरी क्षमता से फिर खोल दिया गया। वर्तमान में मनपा के पास 34 निजी कोवीड सेंटरों के साथ ग्लोबल, पार्किंग प्लाजा और मुंब्रा कोवीड सेंटर है। बारिश शुरू होने के कारण कलवा स्थित कोविड सेंटर को बंद कर दिया गया है, लेकिन यहां के स्टाफ को ग्लोबल में शिफ्ट किया गया है। हालांकि ठाणे में कोरोना मरीजों की संख्या में कमी आई है, लेकिन मनपा के जरिए धीरे-धीरे निजी कोविड सेंटरों की संख्या कम की जाएगी। हालांकि कोविड सेंटर को बंद नहीं किया जाएगा। वजह एक ही है कि यह कह पाना संभव नहीं है कि कोरोना की तीसरी लहर कब आएगी। इसलिए इसकी पहले से योजना बनाने के लिए कर्मचारियों की कमी नहीं की जाएगी और कोविड सेंटर का भी रखरखाव किया जाएगा। ठाणे मनपा आयुक्त डॉ. विपिन शर्मा ने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर 17 फरवरी को शुरू हुई, जब शहर की संक्रमण दर दो प्रतिशत से अधिक थी। इस समय भी स्थिति वही है। इसलिए कोविड सेंटर अथवा स्टाफ की कमी नहीं की जाएगी। क्योंकि कोरोना की तीसरी लहर कब आएगी, कहा नहीं जा सकता।

ठाणे में कुल कोविड केयर सेंटर – 4
इन सेंटरों के लिए काम पर रखे गए संविदा स्टॉफ – 1200
वर्तमान में चल रहे सेंटर – 3
बंद सेंटर – 1
कुल मरीज – 129791
ठीक हुए मरीज – 126457
वर्तमान में कोविड केयर सेंटर में इलाज करा रहे मरीज – 572