कारुलकर दंपति को मिली डब्ल्यूसीएफए की सदस्यता, दावोस के विश्व परिषद में लेंगे हिस्सा

आईजीआर संवाददाता
मुंबई.
सामा​जिक संस्था ‘कारूलकर प्रतिष्ठान’ के अध्यक्ष प्रशांत कारुलकर व उनकी धर्म पत्नी प्रतिष्ठान की उपाध्यक्ष शीतल जोशी-कारुलकर को वर्ल्ड कम्युनिकेशन फोरम असोसिएशन का (डब्ल्यूसीएफए) (World Communication Forum Association )(WCFA)कॉर्पोरेट सदस्यता प्रदान की गई है। वे यह सम्मान प्राप्त करने वाले पहले भारतीय दंपति हैं। कारुलकर दंपति को स्विट्जरलैंड के दावोस ( Davos) में हर साल होने वाले इस संस्था के परिषद में उपस्थित रहने का मौका मिलेगा ।
विज्ञापन, डिजिटल मार्केटिंग, मीडिया, जनसम्पर्क सहित संचार जगत के विविध क्षेत्रों के नामचीन इस परिषद में उपस्थित रहेंगे। यह परिषद दावोस के वर्ल्ड इकॉनॉमिक फोरम (World Economic Forum) के दौरान आयोजित होता है। एमोटिकॉन्स के निर्माता प्रो. डॉ. स्कॉट फ़ालमन, विश्व की बड़ी डिजिटल मार्केटिंग कंपनी केचम के अध्यक्ष जानी कॅटलफॅमो, संपर्क क्षेत्र के स्वतंत्र सलाहकार कंपनी हिल प्लस नॉल्टन के अध्यक्ष मॅक्झिम बेहर, दक्षिण अफ्रीका रिपब्लिक (Republic of South Africa) के जनसंपर्क मंत्री फेथ मुथांबी, आयसीसीआर के अध्यक्ष डॉ. विनय सहस्त्रबुद्धे व संयुक्त अरब अमीरात के सांस्कृतिक, जनसंपर्क व शिक्षा मंत्री नूरा बिन्त अल काबी जैसी हस्तियां इस वार्षिक परिषद में मौजूद रहेंगी। प्रशांत व शीतल कारुलकर ने इस संस्था की सदस्यता का प्रमाणपत्र डब्ल्यूसीएफए के कार्यकारिणी नियंत्रक योगेश जोशी के हाथों मिलने पर उनका आभार माना।