उल्हासनगर में अवैध निर्माण की बाढ़, मनपा अधिकारियों की चुप्पी

आईजीआर संवाददाता
Ulhasnagar
. एक तरफ उल्हासनगर में धोखदायक इमारतों (illegal construction) को खाली करवाया जा है तो दूसरी तरफ प्रभाग अधिकारियों की मिलीभगत से हर जगह टी गेटर, आरसीसी अवैध निर्माण की बाढ़ आ गई है। पहले प्रभाग अधिकारियों द्वारा शिकायत मिलने के बाद थोड़ी बहुत दिखाने के लिए करवाई भी की जाती थी लेकिन अब के प्रभाग अधिकारी और बीट मुकदमा अवैध निर्माण के मामले में चुप्पी साध रखी है, जिससे उल्हासनगर में जगह- जगह जल्द बाजी में अवैध निर्माण हो रहा है।

( ये भी पढ़े – डांस बार मामले में वर्तक नगर और नौपाड़ा के सहायक आयुक्तों पर गिरी गाज)

उल्हासनगर केम्प एक पोस्ट आफिस के सामने पहले एक तीन मंजिला बिल्डिंग बनी हुयी थी लेकिन धोखदायक होने के कारण उस बिल्डिंग को तोड़ दिया गया और उस जगह पर अब डबल टी गेटर का अवैध निर्माण हो रहा है। बताया जाता है कि इस काम को बनाने की जिम्मेदारी एक दलाल ने ली है और दलाल ने उस जगह पर दूसरा आदमी खड़ा करके अवैध निर्माण शुरू करवा दिया है, जिससे इस मामले में उसका नाम नहीं आये और अवैध निर्माण भी बन जाये।

कहा जाता है कि इस दलाल का उल्हासनगर में कई अवैध निर्माण चालू है और हर अवैध निर्माण पर दूसरे आदमी खड़ा करके अवैध निर्माण कर रहा है। इसी तरह ठाकुर फ़ोटो स्टूडियो के पास खुलेआम आरसीसी काम को अंजाम दिया जा रहा है, जो पूरी तरह से अवैध है लेकिन उल्हासनगर मनपा अधिकारियों द्वारा आज तक इस पर कोई करवाई नही की गई है, जिससे यह अवैध निर्माण दो मंजिला का खड़ा हो गया। भाजी मार्केट और बेवस चौक रोड पर इसी तरह भोलेनाथ मंदिर के सामने तीन मंजिले का अवैध निर्माण किया जा रहा है।

इसी तरह झूलेलाल मंदिर के पीछे डबल टी गेटर बनकर अचानक खड़ा हो गया और मनपा अधिकारी चुप बैठे रहे। ऐसे दर्जनों अवैध निर्माण उल्हासनगर में चल रहे हैं लेकिन उल्हासनगर मनपा अधिकारी अवैध निर्माण के खिलाफ मौन धारण करके रखे हैं, जिससे उल्हासनगर के गली कूचे में भी डबल टी गेटर बनाने का दौर शुरू हो गया है।