एक घंटे तक हुई झमाझम बारिश, उमस भरी गर्मी से मिली राहत

कई जगहों पर पर भरा पानी
ठाणे.
शनिवार की दोपहर डेढ़ बजे चमक और बादलों की गड़गड़ाहट के बीच एक घंटे तक झमाझम बारिश हुई। इससे जहां मौसम खुशनुमा हो गया वहीं नागरिकों ने उमस भरी गर्मी से राहत पाई है। हलांकि इस दौरान अचानक बरसात होने से शहर में कई जगहों पर जल जमाव के चलते घुटने भर पानी में भी चलना पड़ा।

आपको बता दें कि मौसम विभाग (Meteorological Department) ने जून की 10 तारीख तक मानसून का मुंबई और आसपास के शहरों तक आने का पूर्वानुमान लगाया है। बहरहाल, पिछले एक सप्ताह से लोगों को उमस भरी गर्मी का सामना करना पड़ रहा था। शनिवार को दोपहर पहले काले बादल मंडराने लगे और फिर तेज बारिश शुरू हो गई। इस दौरान हवाएं भी तेज चल रही थी। हालांकि यह बारिश थम-थम कर हुई, परन्तु इस पहली बरसात का लोगों ने जहां लुफ्त उठाया। वहीं दूसरी तरफ लोगों को इस पहली बरसात में भी परेशानी का सामना करना पड़ा। लोगों को सड़कों पर कुछ जगहों पर जल जमाव की परेशनी झेलनी पड़ी है।

आयुक्त के बंगले के सामने जमा हुआ पानी
शहर में कही भी जल जमाव नहीं होगा ऐसा दावा मनपा प्रशासन ने किया था। साथ ही आयुक्त डॉ विपिन शर्मा ने पिछले सप्ताह समीक्षा बैठक लेकर अधिकारियों को कही भी जल जमाव न होने के लिए विशेष ध्यान देने और समय पर काम पूरा करने का निर्देश दिया था। लेकिन शनिवार की बरसात ने प्रशासन के सभी दावों की पोल खोल कर रख दिया। सिर्फ एक घंटे के मूसलाधार बरसात ने मनपा के मानसूनी नियोजन कितन सफल है इसका पूरा चिथड़ा कर दिया। शहर में अनेकों जगहों पर जल जमाव तो देखा ही गया। इस एक घंटे के मूसलाधार बारिस में आलम यह था कि हिरानंदानी इस्टेट की तरफ जाने वाली पातलीपाडा लिंक रोड और श्रीमां विद्या निकेतन स्कूल के सामने पर घुटने तक पानी जमा था और दबाव में पानी बह रहा था।

निचले इलाकों में जमा हुआ पानी
शनिवार की दोपहर अचानक हुए मौसम परिवर्तन के कारण डेढ़ बजे के आसपास जोरदार बारिश हुई। इस बारिश के कारण जगह जगह पर जलजमाव की स्थिति दिखाई दी। इस दौरान लोगों के घरों तथा दुकानों में बरसात का पानी चला गया, ऐसे में शहर में स्थिति कुछ अच्छी नहीं थी और निचले इलाके जलमग्न हो गए थे, कुछ जगहों पर वृक्ष धराशायी हो गए। जिसके कारण कुछ समय के लिए यातायात बाधित रहा।