वित्‍त मंत्री ने कहा- क्‍लेम सेटलमेंट को तेजी से निपटाएं इंश्‍योरेंस कंपनियां

New Delhi. वित्‍त मंत्री निर्मला सीतारमण (Finance Minister Nirmala Sitharaman) ने कोविड-19 से लड़ाई में महत्‍वपूर्ण भूमिका निभा रहे स्‍वास्‍थ्‍य कर्मियों के लिए प्रधानमंत्री गरीब कल्‍याण पैकेज की प्रगति की समीक्षा की। सीतारमण ने इंश्‍योरेंस कंपनियों से प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना (पीएमजेजेबीवाई) के तहत क्‍लेम (दावों) को तेजी से निपटाने को कहा। 

वित्‍त मंत्रालय ने शनिवार को जारी एक आधिकारिक बयान में कहा कि बीमा कंपनियों के प्रमुखों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग (video conferencing) के जरिए अयोजित बैठक में वित्त मंत्री ने इन योजनाओं के तहत जरूरी दस्तावेजीकरण की प्रक्रिया को तर्कसंगत बनाने पर भी जोर दिया, जिससे दावों का निपटान तेजी से किया जा सके।

( ये भी पढ़े – पेट्रोल-डीजल फिर महंगा, दिल्ली में पेट्रोल 95 रुपये के पार )

निर्मला सीतारमण ने कहा कि पीएमजीकेपी योजना के तहत अभी तक 419 दावों का निपटारा किया गया और नामितों के खातों में 209.5 करोड़ रुपये डाले गए हैं। वित्त मंत्री ने कहा कि राज्यों के दस्तावेज भेजने में देरी के मुद्दे का हल के लिए एक नई प्रणाली तय की गई है। इसके तहत जिला मजिस्ट्रेट द्वारा जारी एक सामान्य प्रमाणपत्र और नोडल राज्य स्वास्थ्य प्राधिकरण की पुष्टि दावों के निपटान के लिए पर्याप्त होगी।

सीतारमण ने न्यू इंडिया एश्योरेंस कंपनी के प्रयासों की सराहना भी किया। पीएमजीकेपी योजना के प्रबंधन की जिम्मेदारी इसी कंपनी की है। उन्होंने लद्दाख का उदाहरण दिया जहां जिला मजिस्ट्रेट का प्रमाणपत्र मिलने के चार घंटे के अंदर दावे का निपटान कर दिया गया है। वित्त मंत्री ने राज्यों को निर्देश दिया कि वे स्वास्थ्य कर्मियों के कोविड-19 दावों का निपटान प्राथमिकता के आधार पर करें। 

उल्‍लेखनीय है कि पीएमजेजेबीवाई (PMGKP scheme) के तहत कुल 9,307 करोड़ रुपये के 4.65 लाख दावों का निपटान किया गया है। वित्त मंत्री ने प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना (पीएमएसबीआई) की भी समीक्षा की। 31 मई, 2021 तक 1,629 करोड़ रुपये कुल 82,660 दावों का निपटान किया गया है।