घर में घुस रहा दुश्मन कोरोना, सर्जिकल स्ट्राइक की जरूरत : बॉम्बे हाईकोर्ट

आईजीआर संवाददाता
Mumbai.
“कोरोनावायरस (Coronavirus) समाज का सबसे बड़ा दुश्मन है और उसने आपके घर में घुसपैठ की है। केंद्र सरकार को ऐसे दुश्मन पर ‘सर्जिकल स्ट्राइक’ शुरू करने पर विचार करना चाहिए।” यह बातें बॉम्बे हाईकोर्ट ने कही (Bombay High Court said these things)।
ज्ञात हो कि घर-घर टीका दिलाने को को लेकर एड. धृती कपाड़िया और एड. कृणाल तिवारी ने एक जनहित याचिका दायर की है। इस पर केंद्र की ओर से कहा गया है कि मौजूदा स्थिति में घरेलू टीकाकरण की नीति संभव नहीं है। इसके बजाय, हमने घर के पास टीकाकरण की नीति अपनाई है।

( ये भी पढ़े – मानसून के मद्देनजर भिवंडी की टेकरियों पर रहने वालों को मनपा ने नोटिस देकर किया सावधान )

वहीं इस मामले की सुनवाई मुख्य न्यायाधीश दीपांकर दत्त और न्यायमूर्ति गिरीश कुलकर्णी की पीठ के समक्ष हुई। कोर्ट ने कहा है कि कोरोना पर हमला होना चाहिए। इस शत्रु ने हमारे घर पर आक्रमण किया है। उसने हम में से कुछ को घेर लिया है। इससे लोगों का निकलना मुश्किल हो गया है। इसलिए केंद्र सरकार को उन पर सर्जिकल स्ट्राइक (surgical strike) शुरू करने पर विचार करना चाहिए।सरकार बिना दुश्मन पर हमला किए सीमा पर खड़ी है और वायरस के घर से बाहर आने का इंतजार कर रही है।
कोर्ट ने कहा, ‘हालांकि यह सच है कि केंद्र सरकार जनहित में फैसले लेती है, लेकिन इसमें देरी हो रही है। अगर टीकाकरण पर निर्णय में देरी नहीं की जाती तो कई लोगों की जान बच जाती।’