अंतिम नागरिक तक टीका पहुंचाने का होगा प्रयास : महापौर

आईजीआर संवाददाता
Thane.
ठाणे के महापौर नरेश म्हस्के (Thane Mayor Naresh Mhaske) ने येऊर में आदिवासियों के लिए एक टीकाकरण केंद्र का उद्घाटन किया जो, ऑनलाइन पंजीकरण से वंचित हैं। साथ ही उन्हें टीकाकरण के लिए शहर में आना-जाना संभव नहीं हो रहा है। इस दौरान महापौर म्हस्के ने कहा कि वह टीकाकरण के प्रति नागरिकों में जागरूकता पैदा करने और अंतिम नागरिक तक टीका पहुंचाने के लिए हर संभव प्रयास करेंगे। येऊर के पाटिलवाड़ी स्वास्थ्य केंद्र में एक टीकाकरण केंद्र (vaccination center) का उद्घाटन किया गया।
वर्तकनगर प्रभाग समिति की अध्यक्षा राधिका फाटक, स्थानीय नगरसेविका परिषा सरनाईक, जयश्री डेविड, रागिनी बैरिशेट्टी, सहायक आयुक्त प्रणाली घोंगे, उप चिकित्सा अधिकारी डॉ. खुशबू टावरी, चिकित्सा अधिकारी डॉ. वर्षा ससाणे भी मौजूद थीं। येऊर क्षेत्र में बड़ी संख्या में आदिवासी पाड़े हैं, जहां के लोगों में टीकाकरण को लेकर भय और भ्रांतियां हैं, ऐसे में यहां के लोग टीकाकरण के लिए आगे नहीं आते हैं। हालांकि, यहां के नागरिकों को भी टीकाकरण की आवश्यकता थी। ऐसे में महापौर नरेश म्हस्के के सुझाव पर ठाणे में सामाजिक संगठन प्रथम कला अकादमी की संस्थापक अरुंधति भालेराव और उनके सहयोगियों ने क्षेत्र में दस दिवसीय जन जागरूकता अभियान चलाया। उन्होंने जन जागरूकता अभियान के तहत सभी नागरिकों को टीकाकरण के महत्व के बारे में बताते हुए कहा कि टीकाकरण किया जाना स्वास्थ्य के हित में है।

( ये भी पढ़िए – लापता चल रहे युवक का शव पुल के नीचे मिला)
इस अभियान में 200 से अधिक नागरिकों ने टीकाकरण के लिए तत्परता दिखाई। चूंकि इन नागरिकों के लिए ऑनलाइन पंजीकरण करना और टीकाकरण के लिए शहर में आना-जाना संभव नहीं था, इसलिए महापौर नरेश म्हस्के ने आयुक्त डॉ. विपिन शर्मा से येऊर में टीकाकरण केंद्र शुरू करने को लेकर चर्चा की। आयुक्त डॉ. शर्मा (Commissioner Dr. Sharma) ने इस टीकाकरण केंद्र के लिए तत्काल अनुमति भी दे दी, जिसका शुक्रवार को उद्घाटन हुआ। साथ ही पहले दिन नागरिकों का अच्छा प्रतिसाद भी मिला। हालांकि, स्वास्थ्य केंद्र के डॉक्टर और नर्स भी आने यहां के लोगों में जागरूकता बढ़ा रहे हैं। संभावना जताई जा रही है।