दिवा हुआ पानी-पानी, नाला सफाई के दावे की उड़ी धज्जियां

लोगों के घरों में घुसा पानी
आईजीआर संवाददाता
Thane.
दिवा में नाला सफाई के दावे (cleaning the drain in Diva) की धज्जियां उड़ गईं हैं। पहली ही बारिश में लोगों के घरों में पानी घुस गया है। गटर का योग्य नियोजन न होने और नाला सफाई का सही तरीके से न होने का खामियाजा दिवा वासियों को पहली बरसात में उठाना पड़ा हैं। क्योंकि बुधवार की पहली मानसूनी बरसात में दिवा में लोगों के घरों में घुटने से भी अधिक पानी भर आया। ऐसे में लोग पानी घर से बाहर निकालते नजर आए, जबकि अभी पूरा बरसात बाकी है।
आपको बता दें कि ठाणे महानगर पालिका की सीमा अंतर्गत आने वाला दिवा परिसर खाड़ी के किनारे बसा हुआ है। यहां पर नाला सफाई के नाम पर प्रतिवर्ष हाथ की सफाई का आरोप होता आ रहा हैं। इस बार ऐसी संभावना जताई जा रही थी कि शायद नाले बरसात से भरेंगे नहीं, लेकिन ठीक इसका उल्टा नजारा नजर आ रहा हैं।

( ये भी पढ़े – मानसून के मद्देनजर भिवंडी की टेकरियों पर रहने वालों को मनपा ने नोटिस देकर किया सावधान )
यहां के स्थानीय निवासी अर्जुन उपाध्याय का कहना है कि दिवा में अनेकों जगहों पर सड़कों का काम तो किया गया है, लेकिन पानी के निकासी की व्यवस्था सही तरीके से नहीं की गई है और गटर को भी दुरुस्त नहीं किया गया हैं। यही कारण है कि पानी का सही तरीके से निकास नहीं हो पा रहा हैं। वहीं भाजपा के रोहिदास मुंडे (Rohidas Munde of BJP) ने इसे मनपा की लापरवाही करार दिया हैं। मुंडे का कहना है कि इतनी कम बार‍िश में यह हाल है तो यह अनुमान लगाया जा सकता है क‍ि आने वाले दिनों में लोगों को भारी परेशानी उठानी होगी।
मुंडे ने आरोप लगाया कि मुख्य नालों की सफाई सही तरीके से नहीं हुई(Munde alleged that the main drains were not cleaned properly), जिसके कारण पहली बरसात में ही बैठी चालों और कुछ बिल्डिंग में नाला का बरसाती पानी घुस गया हैं। आलम यह है कि लोगों को घुटने से भी अधिक पानी मे रहने के लिए मजबूर होना पड़ रहा हैं और अनेक समस्याओं को झेलना पड़ रहा है। साथ ही मुंडे ने नालों की सफाई ठीक तरीके से न करने वाले ठेकेदार और संबंधित अधिकारियों पर कार्रवाई की मांग की है। साथ ही उन्होंने इस बरसात के दौरान कोई बड़ी दुर्घटना न घटे इसके लिए यहां के निवासियों के रहने की व्यवस्था भी करने की मांग की।