म्यांमार में गिरफ्तार 135 पत्रकारों व लेखकों को बिना शर्त रिहा करने की मांग

आईजीआर संवाददाता
Guwahati / Geneva
. पत्रकारों और लेखकों के हितों के लिए काम करने वाले संगठन प्रेस एंब्लेम कंपेन (The Press Emblem Campaign) (पीईसी) ने म्यांमार की तानाशाह सरकार (dictatorial government) द्वारा गिरफ्तार किए गए 85 पत्रकारों तथा 50 लेखकों को बिना शर्त रिहा करने की मांग की है। इस संगठन के दक्षिण-पूर्व एशिया( South-East Asia of this organization) के प्रतिनिधि नव ठाकुरिया ने गुवाहाटी में शनिवार को दी। उन्होंने बताया कि पीईसी ने म्यांमार सरकार को पत्रकारों की स्वाधीनता एवं उसके मानवाधिकारों को लेकर संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा समय-समय पर लिए गए रिजर्वेशन का हवाला दिया है।

(यह भी पढ़िए; क‍िसी के चेहरे पर मुस्‍कान लाती हूं तो लगता है ज‍िंदा हूं मैं)


जिनेवा स्थित संगठन के कार्यालय से म्यांमार की तानाशाह सरकार को औपचारिक रूप से अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (International Human Rights Commission) ने निर्धारित मानदंडों के आधार पर तत्काल ही रिहा करने का आग्रह किया है। संगठन का कहना है कि म्यांमार की तानाशाह सरकार द्वारा लगातार पत्रकारों को गिरफ्तार किया जा रहा है। तानाशाह सरकार ने अभी हाल ही में बनाए गए नए कानून के तहत पत्रकारों को गिरफ्तार किया है। इसी दौरान डेमोक्रेटिक वॉइस ऑफ बर्मा से जुड़े पत्रकार कोवांग क्याओ तथा मिज्जिमा मीडिया ग्रुप में फोटो जर्नलिस्ट के तौर पर काम करने वाले कोजाओजाओ को म्यांमार के मिलिट्री कोर्ट ने दो-दो वर्ष कैद की सजा सुनाई है। पीईसी ने तत्काल इस तरह की कार्रवाई रोकने तथा गिरफ्तार किए गए सभी पत्रकारों को रिहा करने को कहा है।