नाला सफाई के नाम पर भ्रष्टाचार, जांच और कार्रवाई ज़रूरी : कांग्रेस

Mumbai. मुंबई कांग्रेस के अध्यक्ष (Mumbai congress president) भाई जगताप (Bhai jagtap) ने मनपा अधिकारियों और ठेकेदारों पर आरोप लगाते हुए कहा कि मुंबई मनपा के अधिकारियों की मिलीभगत से ठेकेदारों ने सफाई करने के नाम पर भ्रष्टाचार किया है। बड़े पैमाने पर मनपा को चुना लगाया है। घाटकोपर में लक्ष्मीनगर नाला, धारावी, गोवंडी शिवाजी नगर, जैसे नाले अभी भी भरे हुए हैं। इसलिए मनपा की ओर से जो 102% सफाई करने का जो दावा किया गया है वह सरासर झूठ है। जगताप ने कहा कि इस मामले में वह मनपा आयुक्त इकबाल सिंह चहल (Municipal Commissioner Iqbal Singh Chahal) के साथ बैठक करेंगे और नाले की सफाई में होने वाले भ्रष्टाचार की जांच कराकर दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग करेंगे।

मुंबई कांग्रेस के कार्याध्यक्ष चरण सिंह सप्रा (Charan singh sapra), मनपा के विरोधी दल के नेता रवि राजा और भूषण पाटिल के साथ भाई जगताप ने धारावी में गुरुवार दोपहर करीब 90 फुट के नाले का निरीक्षण किया। इस दौरान भाइ जगताप ने मानखुर्द, घाटकोपर और धारावी में नालों की सफाई कार्य का निरीक्षण करते हुए मनपा की ओर से किए गए सफाई के दावे को झूठा बताते हुए जांच कर कार्रवाई की मांग की।
भाई जगताप ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि ​हर साल बारिश से पहले मुंबई में नाला सफ़ाई का काम किया जाता है।

इसके लिए मुंबई मनपा ठेकेदारों को काम पर रखता है और इन कार्यों पर 100-150 करोड़ रुपये खर्च करता है। मनपा इन ठेकेदारों को नाले की सफाई, नाले से गाद उठाकर डंपिंग ग्राउंड में डंप करने के लिए करोड़ों रुपये का भुगतान करता है। हालांकि, मनपा ने दावा किया है कि शहरी क्षेत्रों में 102% और उपनगरों में 96% काम किया गया है। साथ ही, धारावी में 90 फीट के नाले की अभी तक कुछ जगहों पर सफाई नहीं हुई है। हालांकि यह सच है कि मनपा का पूरा फोकस कोरोना नियंत्रण पर है। पर मानसून को देखते हुए नाला सफ़ाई का काम भी जरूरी है और धारावी में नाला कूड़े और गंदगी से भरा है, जिससे क्षेत्र के लोगों के स्वास्थ्य को खतरा हो सकता हैै। रवि राजा ने इस सम्बंध में आशंका व्यक्त करते हुए कहा, इस साल बारिश में नालों में पानी भर जाने से मुंबई जलमग्न हो जाएगी।