बीएमसी ने मात्रा 5 माह में तैयार किया नया पुल

आईजीआर संवाददाता
Mumbai.
1940 के दशक में मुंबई मनपा के ‘एस’ विभाग के पवई क्षेत्र में मीठी नदी पर एक पुल बनाया गया था, जो जर्जर हो चुका है (which is ruined)। पुल की खराब हालत को देखते हुए मनपा ने उसी के पास मात्र 5 महीन में एक नया पुल तैयार कर दिया है, जिसके कारण स्थानीय लोगों और वाहन चालकों को काफी राहत मिली है और वे मनपा (Municipal Corporation) के कार्य प्रणाली की सराहना कर रहे हैं।

गौरतलब है कि पुल की खराब हालत को देखते हुए उसे दिसंबर 2020 में इसे तोड़ा गया था। उसके बाद मनपा के पुल विभाग द्वारा नवीनतम तकनीक और विधियों का उपयोग करके केवल 5 महीने में ही पुल का निर्माण पूरा किया गया। पुराने पुल की चौड़ाई महज 7 मीटर थी जबकि नया पुल 34 मीटर लंबा और 24 मीटर चौड़ा है। पुल को तत्काल यातायात के लिए खोल दिया गया है। इस पुल का काम जिस तेजी से किया गया, वह यह मनपा के लिए एक उदाहरण है कि रिकॉर्ड समय में कैसे काम किया जा सकता है। अतिरिक्त मनपा आयुक्त पी. वेलारसु ने बताया कि इस खतरनाक पुल की जगह तेजी से नया पुल बनाया गया है। पुल पर काम करने के दौरान कुछ मजदूर कोरोना से संक्रमित हो गए थे।

(ये भी पढ़िए – नवी मुंबई एयरपोर्ट : 10 जून को बालासाहेब के नाम का व‍िरोध)
परंतु इस पुल के काम पर बिना किसी प्रतिकूल प्रभाव के काम तय समय से पहले पूरा कर लिया गया है। पुल के कारण, पूर्वी और पश्चिमी उपनगरों को जोड़ने वाली एक और सड़क अब यातायात के लिए खुली है। इस खतरनाक पुल के गिराए जाने के बाद लोगों को होने वाली असुविधा को ध्यान में रखते हुए पुल को गिराने से पहले एक अस्थायी सड़क का निर्माण किया गया था। इस अस्थाई सड़क के निर्माण के बाद पुराने पुल को तोड़ा गया। नए पुल का निर्माण बारिश से पहले पूरा करने की योजना थी, इसलिए नवीनतम तकनीक और बेहतर तरीकों को अपनाने का निर्णय लिया गया। मनपा के उपायुक्त (Infrastructure) और मुख्य अभियंता (पूल) राजेंद्र कुमार तालकर ने बताया कि इस नए पुल के निर्माण के लिए दिन-रात काम किया गया। नया पुल पुराने से तीन गुना ज्यादा चौड़ा है। साथ ही पुल की ऊंचाई पुराने पुल से ज्यादा है। पुराना पुल 6 मीटर ऊंचा था, जबकि नया पुल 7 मीटर ऊंचा है।