ठाणे मनपा क्षेत्र में 4522 इमारतें खतरनाक

73 अतिखतरनाक
30 अतिखतरनाक इमारतों को किया गया जमींदोज

ठाणे. मनपा क्षेत्र (Thane Municipal Area) में 4522 इमारतें खतरनाक हैं। मानसून की शुरुआत के साथ ही हर साल खतरनाक और बेहद खतरनाक इमारतों की समस्या ठाणे शहर के लिए परेशानी का सबब बनती है। तदनुसार, मॉनसून से पहले इमारतों का सर्वेक्षण किया जाता है। इसके अनुसार जानकारी सामने आई है कि ठाणे मनपा क्षेत्र में इस समय 4 हजार 522 भवन खतरनाक हैं। इनमें से 73 इमारतें बेहद खतरनाक हैं, जिसमें 30 को तोड़ा जा चुका है। हालांकि यह पता चला है कि वर्तमान में 250,000 निवासी इन खतरनाक इमारतों में अपनी जान जोखिम में डालकर रह रहे हैं। एक ओर कोरोना महामारी, तो दूसरी ओर मृत्यु का भय सता रही है। खतरनाक इमारतों में रहने वाले लोगों के सामने यह समस्या पैदा हो गई है कि इस बारिश में वे कहां जाएं।
मॉनसून आगमन के साथ ही समीक्षा की जा रही है कि प्री-मॉनसून की स्थिति से निपटने के लिए प्रशासन कितनी अच्छी तरह से तैयार है। साथ ही बरसात के मौसम में पुरानी इमारतों के ढहने की समस्या अधिक होती है। इसलिए ऐसी इमारतों का सर्वेक्षण कर अध्ययन किया जाता है कि कौन सी इमारतों को तत्काल गिराने की आवश्यकता है और किसकी मरम्मत की जा सकती है। इसके अनुसार मनपा द्वारा घोषित खतरनाक इमारतों में सी-1 अत्यंत खतरनाक श्रेणी में रखा जाता है। साथ ही ऐसी इमारतों को नोटिस चस्पा दिए जाने के कुछ समय बाद उन्हें ध्वस्त कर दिया जाता है। सी-1-ए में शामिल खतरनाक इमारतों को खाली कर दिया जाता है और संरचनात्मक रूप से निरीक्षण किया जाता है। इस वर्ष के सर्वेक्षण में ठाणे मनपा के नौ प्रभाग समितियों में 4,522 खतरनाक इमारतों की सूची सार्वजनिक की गई है। इसमें 73 उच्च जोखिम वाली इमारतें शामिल हैं। इसके अलावा सी-2ए में 154 इमारतें शामिल हैं। सी2बी में 2416 इमारतें हैं और सी 3 में 1879 इमारतें हैं। इन इमारतों की मरम्मत की जा सकती है। इसलिए इन इमारतों के स्वामियों को भी नोटिस जारी कर उनके अनुसार मरम्मत की कार्रवाई करने का निर्देश दिया गया है। नोटिस के मुताबिक शहर की 73 में से 30 इमारतों को अब तक धाराशायी कर दिया गया है। हालांकि, वर्तमान में इन इमारतों में 250,000 से अधिक नागरिकों अपने जीवन को हाथ में लेकर रह रहे हैं।
इन इमारतों के निवासियों से कहा गया है कि वे अपने रहने की व्यवस्था स्वयं करें, चाहे वह किराए का अथवा खुद का आवास क्यों न हों। मनपा के अतिक्रमण उपायुक्त अशोक बुरपल्ले ने कहा कि पहले चरण में बारिश से होने वाले नुकसान को रोकने के लिए मनपा के माध्यम से उच्च जोखिम वाले इमारतों में रहने वालों को नोटिस जारी किया जाता है। इसके बाद उन इमारतों पर कार्रवाई की जाती है। साथ ही यदि इमारत मरम्मत योग्य हैं, तो उनके मालिकों को भी नोटिस जारी किए जाते हैं।

शहर में खतरनाक इमारतों की संख्या : 4522
इमारत में रहने वालों की संख्या :
2 लाख 50 हजार


प्रभाग समितिवार खतरनाक भवनों की सूची
कोपरी नौपाड़ा : 453
उथलसर : 134
वागले इस्टेट : 1086
लोकमान्य नगर : 217
वर्तक नगर : 54
मजीवाड़ा- मानपाड़ा : 193
कलवा : 193
मुंब्रा : 1419
दिवा : 841